NDTVBusinessहिन्दीMoviesCricketTechWeb StoriesHopFoodAutoSwasthLifestyleHealthবাংলাதமிழ்AppsArt
ADVERTISEMENT

मां का दूध भविष्य में बच्चों को बचाता है इस बीमारी से

नवजात शिशुओं को 6 महीने तक मां का ही दूध पिलाना चाहिए.

मां का दूध भविष्य में एलर्जी से बचने में मददगार

नवजात शिशुओं को 6 महीने तक मां का ही दूध पिलाना चाहिए. इससे उनके शरीर में जरूरी पोषक तत्व पहुंचकर उन्हें बीमारियों से बचाते हैं. इसके साथ ही मां का दूध भविष्य में होने वाली बच्चों को एलर्जी से भी बचाने में मददगार होता है. यह बात एक रिसर्च से पता चली है. 
इसके मुताबिक मां के दूध में मिलने वाले शर्करा (शुगर) का लाभ भले ही बचपन में नहीं मिले लेकिन भविष्य में रोग से लड़ने के लिए यह प्रतिरोधी क्षमता का काम करता है. क्योंकि मां के दूध में ओलिगोसैकराइड्स (एचएमओ) पाया जाता है जिसकी संरचनात्मक में जटिल शर्करा के मोलेक्युल्स होते हैं. यह मां के दूध में पाए जाने वाले लेक्टोज और वसा के बाद तीसरा सबसे बड़ा ठोस घटक है. 
भारत के इस राज्य में अस्पताल में नहीं घरों में होती बच्चों की डिलीवरी


असल में बच्चे मां के दूध को पचा नहीं पाते हैं लेकिन लेकिन शिशु के आंत में माइक्रोबायोटा के विकास में प्रिबॉयोटिक के तौर पर काम करते हैं. माइक्रोबायोटा एलर्जी की बीमारी पर असर डालता है.
इस रिसर्च में एक साल की उम्र होने पर बच्चे की त्वचा की जांच की गई, जिसमें पाया गया कि स्तनपान करने वाले शिशुओं ने खाद्य पदार्थ की एलर्जी के प्रति संवेदनशीलता नहीं दिखाई.
बचपन में बच्चों को खिलाएं ये FOOD, कभी नहीं होगी कोलेस्ट्रॉल की परेशानी
Comments कनाडा के विनीपेग में मैनिटोबा विश्वविद्यालय के सहायक प्रोफेसर मेघन आजाद ने कहा, "परीक्षण में पॉजिटिव लक्षण का पाया जाना जरूरी नहीं है कि वह एलर्जी का साक्ष्य हो, लेकिन यह उच्च संवेदनशीलता का संकेत अवश्य देता है."
उन्होंने कहा, "बाल्यावस्था के संवेदीकरण हमेशा बाद के दिनों तक नहीं बने रहते हैं, लेकिन वे भविष्य में एलर्जी बीमारी के महत्वपूर्ण नैदानिक संकेतक और संभावनाओं को उजागर करते हैं."
 




फैशन, ब्‍यूटी, हेल्‍थ, ट्रैवल, प्रेग्‍नेंसी, पेरेंटिंग, सेक्‍स और रिलेशनश‍िप से जुड़े तमाम अपडेट के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.

ADVERTISEMENT
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com