NDTVBusinessHindiMoviesCricketHealthFoodTechAutoSwasthதமிழ்বাংলাAppsTrainsArt
ADVERTISEMENT

मुम्बई, दिल्ली और बेंगलुरू में पेरेंट्स की ये गलती बनती है बच्चों के यौन शोषण और अपहरण का कारण

भारतीय अभिभावक इस बात को लेकर जागरूक तो हैं कि अपने बच्चों की तस्वीर को ऑनलाइन पोस्ट करने से उसके गलत हाथों में पड़ने का खतरा है.

मुम्बई, दिल्ली और बेंगलुरू में पेरेंट्स की ये गलती बनती है बच्चों के यौन शोषण और अपहरण का कारण

खतरे के बावजूद बच्चों की तस्वीरें आनलाइन साझा कर रहे भारतीय अभिभावक

बच्चों से जुड़े हर मूमेंट को आजकल के माता-पिता सोशल मीडिया पर शेयर करते हैं. इसका कारण बच्चों को पॉपुलर करना या फिर बच्चों से जुड़ी अपनी खुशी डिजिटल दुनिया पर शेयर करना हो सकता है. लेकिन ये पेरेंट्स अपनी इस आदत के चलते बच्चों को खतरे में डाल रहे हैं. 

भारतीय अभिभावक इस बात को लेकर जागरूक तो हैं कि अपने बच्चों की तस्वीर को ऑनलाइन पोस्ट करने से उसके गलत हाथों में पड़ने का खतरा है, लेकिन फिर भी उनमें से अधिकतर अपने बच्चों से बिना पूछे अक्सर उनकी तस्वीरें ऑनलाइन साझा करते हैं.

'द एज ऑफ कन्सेंट' शीर्षक वाले सर्वे में पाया गया कि भारत में 40.5 फीसदी अभिभावक अपने सोशल मीडिया खातों पर दिन में कम से कम एक बार अपने बच्चों की एक तस्वीर या वीडियो पोस्ट करते हैं, जबकि 36 फीसदी एक सप्ताह में अपने बच्चे की तस्वीर पोस्ट करते हैं. दिन में एक बार बच्चों की तस्वीर साझा करने वालों में मुंबईवासी सबसे आगे हैं.

आपका बच्चा भी न हो यौन शोषण का शिकार, अपने बच्चों को दें ये टिप्स

अधिकांश अभिभावकों ने ऑनलाइन तस्वीर साझा करने से जुड़ी मुख्य चिंताओं में बाल यौन शोषण (16.5 प्रतिशत), पीछा करना (32 प्रतिशत), अपहरण (43 प्रतिशत) और साइबर धमकी (23 प्रतिशत) की पहचान की है. इसके बावजूद इनमें से 62 प्रतिशत ने अपने बच्चों की तस्वीरें साझा करते वक्त यह सोचने की भी जहमत नहीं उठाई कि इसमें उनके बच्चे की सहमति होगी या नहीं.

सर्वे में पाया गया, "सबसे ज्यादा हैरत की बात यह है कि 76 फीसदी अभिभावकों का कहना है कि वे अपने बच्चों की तस्वीरें ऑनलाइन पोस्ट करते वक्त उसके गलत हाथों में जाने के खतरे को जानते हैं."

जानिए बच्चे क्यों गीला करते हैं बिस्तर, कैसे छुड़ाए उनकी ये आदत

मुंबई (66.5 फीसदी), दिल्ली (61 फीसदी) और बेंगलुरू (55 फीसदी) वे शहर हैं, जहां अभिभावकों का मानना है कि उनके पास बिना अपने बच्चों से पूछे उनकी तस्वीरें ऑनलाइन साझा करने का अधिकार है.

मैकेफी के इंजीनियरिंग उपाध्यक्ष व प्रबंध निदेशक वेंकट कृष्णापुर ने कहा, "सर्वे में खुलासा हुआ है कि अभिभावक ऑनलाइन पोस्ट करते वक्त चीजों को ज्यादा महत्व नहीं देते कि यह कैसे उनके बच्चों को नुकसान पहुंचा सकता है. बच्चों की जानकारी पोस्ट करने से उनकी व्यक्तिगत जानकारी को भी नुकसान पहुंच सकता है."

वैश्विक साइबर सुरक्षा कंपनी मैकेफी के सर्वे में मंगलवार को इस बात का खुलासा हुआ. 

Comments

बच्चा सबके सामने जिद करे तो क्या करें?



फैशन, ब्‍यूटी, हेल्‍थ, ट्रैवल, प्रेग्‍नेंसी, पेरेंटिंग, सेक्‍स और रिलेशनश‍िप से जुड़े तमाम अपडेट के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.

ADVERTISEMENT