NDTVBusinessहिन्दीMoviesCricketTechWeb StoriesHopFoodAutoSwasthLifestyleHealthবাংলাதமிழ்AppsArt
ADVERTISEMENT

बच्चों से रेप के मामलों से जुड़े कानून POCSO की 5 अहम बातें

हमारे देश में बच्‍चों के साथ रेप, यौन शोषण और छेड़छाड़ कोई नई बात नहीं है. इन मामलों को बेहतर ढंग से सुलझाने के लिए भारत में पॉक्सो (POCSO) एक्‍ट बनाया गया है. जानें इसके बारे में सबकुछ

POCSO ‘प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रेन फ्रॉम सेक्सुअल ऑफेंसेस‘ एक्ट के बारे में जानिए सबकुछ

जम्मू-कश्मीर के रसना गांव में 8 साल की बच्ची के साथ गैंग रेप हुआ और बाद में उसकी हत्या कर दी गई. इस दर्दनाक घटना के बाद बच्चों और उनकी सुरक्षा पर फिर सवालिया निशान लग गया. वैसे हमारे देश में बच्चों के साथ ऐसी घटनाएं अब आम सी हो गई हैं. कटुआ गैंगरेप से पहले भी बच्चियों के साथ रेप की घटनाएं होती रही हैं. इसी वजह से ऐसे मामलों को बेहतर ढंग से सुलझाने के लिए भारत में पॉक्सो (POCSO) एक्‍ट बनाया गया है. हालांकि यह एक्ट जम्मू-कश्मीर में लागू नहीं है. फिर भी हम आपको पॉक्‍सो के बारे में कुछ तथ्‍य बता रहे हैं :
 
यह है कठुआ के उस गांव का हाल, जहां कभी गूंजती थीं उस बच्ची की किलकारियां...
 
1. POCSO यानी कि ‘प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रेन फ्रॉम सेक्सुअल ऑफेंसेस‘ एक्ट. यह कानून साल 2012 में लागू हुआ. इस कानून के तहत 18 साल से कम उम्र के बच्चों और बच्चियों से रेप, यौन शोषण, बलात्‍कार और पॉर्नोग्राफी जैसे मामलों में सुरक्षा प्रदान की जाती है.
 
Kathua Rape Case: बॉलीवुड सितारों को आया गुस्सा, ट्विकंल खन्ना ने लिखा, 'मैं गुस्से में हूं...'

2. POCSO एक्ट की अनेक धाराओं में अलग-अलग अपराधों और सजा का प्रावधान है. इस अधिनियम की धारा 4 में बच्चे के साथ दुष्कर्म अपराध के बारे में बताया गया. धारा 6 में दुष्कर्म के बाद गहरी चोटों के मामले में बताया गया और धारा 7 और 8 में बच्चों के गुप्तांग से छेड़छाड़ वाले मामलों के बारे में बताया गया है. इन सभी मामलों में आरोपी को सात साल या फिर उम्रकैद की सजा का प्रावधान है.  
कठुआ रेप केस: सुप्रीम कोर्ट ने जारी किया नोटिस, कहा- वकील को केस में पेश होने से नहीं रोक सकते
 
3. इस एक्ट के तहत वो नाबालिक बच्चे भी आते हैं जिनकी 18 साल से पहले शादी कर दी जाती है. ऐसे में यदि कोई पति या पत्नी 18 साल से कम उम्र के जीवनसाथी के साथ बिना रजामंदी के यौन संबंध बनाता है तो यह भी POCSO अपराध की श्रेणी में आता है. 
 
4. POCSO के तहत किसी अपराध से जुड़े सबूतों को जुर्म के 30 दिनों के अंदर स्पेशल कोर्ट को रिकॉर्ड कर लेने चाहिए. इसी के साथ अपराधों की सुनवाई, इसी स्पेशल कोर्ट में कैमरे के सामने बच्चे के माता पिता या जिन लोगों पर बच्चा भरोसा करता है, उनकी उपस्थिति में की जानी चाहिए.
 
5. POCSO एक्ट में अगर अभियुक्त निर्दोष साबित हो जाता है तो इस अवस्था में वह झूठा आरोप लगाने, गलत जानकारी देने और छवि को खराब करने के लिए बच्चों के माता-पिता या अभिववाकों पर केस करने का हक रखता है. 
Comments
नोट- आपको बता दें ये पॉक्सो एक्ट जम्मू-कश्मीर के अलावा पूरे भारत में लागू होता है. 
देखें वीडियो - कठुआ रेप पर सियासत तेज, जम्मू बंद की अपील
 



फैशन, ब्‍यूटी, हेल्‍थ, ट्रैवल, प्रेग्‍नेंसी, पेरेंटिंग, सेक्‍स और रिलेशनश‍िप से जुड़े तमाम अपडेट के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.

ADVERTISEMENT